Tuesday, April 23, 2024
HomeCentral Govt. YojanaManrega Yojana: मनरेगा योजना २०२३

Manrega Yojana: मनरेगा योजना २०२३

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मनरेगा योजन (महात्मा गाँधी ग्रामीण रोजगार)  एक वित्तीय वर्ष में काम से काम 100 दिन का रोजगार गारंतिकृय योजना है भारत एक कृषि प्रधान देश है जहा पर अधिक से अधिक लोग गांवो में निवास करती है । गांव से निकल कर शहरो में कमाने के लिए लोग जाते रहते है गांव को विकशित करने के लिए और गांव में रोजगार की समस्या दूर करने के लिए मनरेगा योजना की शुरुआत की गयी जिसमे कर एक मजदुर को काम से काम 100 दिन रोजगार दिया जायेगा । जिससे गांव के लोग शहर जाने के अलावा अपने गांव में काम करे और गांव को विकशित होने अपनी सहायता प्रदान करे ।

Manrega Yojana
Manrega Yojana
मनरेगा योजना कब चालू हुयी थी 

मनरेगा योजना महात्मा गाँधी ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम मनरेगा भारत में 2 ओक्टुबर 2009 को विधान द्वारा अधिनियमित किया गया था आपको  बता दे की 2009 से पहले इस योजना का नाम नरेगा था जिसे 2009 में बदलकर मनरेगा कर दिया गया इस योजना को मंत्री रधुवंश प्रसाद सिंह ने सुरु किया था

मनरेगा योजना का उद्देश्य क्या है 

गांव में बहुत से लोग बेरोजगार होते है और नौकरी करने के लिए गांव से शहर की ओर नहीं जा पाते है ऐसी लिए मनरेगा योजना की शुरुआत की गयी । ग्रामीण इलाकों में रोजगार को बढ़ाने के लिए एक वित्तीय वर्ष में काम से कम 100 दिन का रोजगार देने का उद्देश्य रखा गया है ।

मनरेगा योजना का लाभ
  • सबसे बड़ी और अच्छी लाभ यही है की जो भी वयस्क की इस योजन का लाभ के लिए इच्छुक है उसको अपने ही गांव में रोजगार प्रदान किया जायेगा । और सरकार द्वारा 100 दिन का रोजगार देने का गारंटी देती है ।
  • जो इस योजना क लाभ लेना चाहेगा वो व्यशक द्वारा आवेदन किया जायेगा आवेदन करने के 15 दिन के अंदर अगर काम नहीं मिलता है तो उस वयस्क को सरकार रोजगार बत्ता दिया जाता है यह बत्ता पहले 30 दिन एक चौथाई होता है उसके बाद न्यूनतम मजदूरी का 50 परिशत दिया जाता है
  • अलग अलग राज्यो में मनरेगा योजना को कार्य के हिसाब से इसकी कार्य अवधि को बढ़ाया भी जाता है
मनरेगा योजना के अंतर्गत कौन सा कार्य होता है

मरनेगा योजना  में मुख्य रूप से होने वाले कार्य ग्राम पंचायत के अंतर्गत आते है यह कार्य टीकेदारो को दिया जाता है इसमें होना वाला वाला कार्य । जल सचयन, सूखा राहत और बाढ़ नियंत्रण  के लिए आधारभूत संरचना बनने जैसे श्रम- गहन जैसे को कार्यो को प्रथमिक दी जाती है । इसमें कार्य होने वाले बहुत से है जैसे –

  • लधु सिचाई कार्य
  • भूमि विकाश कार्य
  • आवास निर्मण कार्य
  • ग्रामीण सड़को के सूधार में कार्य
  • बाढ़ नियन्रण कार्य
  • जल को बचाने के लिए कार्य
  • बागवानी कार्य
  • गौशाला निर्माण कार्य
  • पेड़ पौधे को रोपण का कार्य

और भी आवश्यकता के अनुसार कार्य आते रहते है

मनरेगा में मजदूरों को कितनी मजदूरी मिलती है

हर राज्य का अपना अपना अलग मजदूरी निर्धारित की गया है जो की निचे के लीस्ट में आप जान पाएंगे

राज्य / संघ राज्य               –                      प्रतिदिन वेतन 

असम                              –                       213.00 रुपया 

आंध्रप्रदेश                        –                        237.00 रुपया

अरुराचल प्रदेश                –                        205.00 रुपया

बिहार                             –                        194.00 रुपया           

छत्तीसगढ़                        –                        190.00 रुपया

गुजरात                            –                        224.00 रुपया

हरियाणा                          –                        357.00 रुपया

हिमाचल प्रदेश                  –                        198 से 248 रुपया छेत्र के अनुसार

जम्मू और कश्मीर              –                        204.00 रुपया

झारखण्ड                          –                       194.00 रुपया

कर्नाटक                            –                       275.00 रुपया

केरला                               –                       291.00 रुपया

महाराष्ट्र                             –                       238.00 रुपया

मध्य प्रदेश                         –                       190.00 रुपया

मणिपुर                             –                        238.00 रुपया

मेघालय                            –                         203.00 रुपया

मिरोराम                           –                         225.00 रुपया

नागालैंड                          –                          205.00 रुपया

ओडिशा                          –                           207.00 रुपया 

सिक्किम                         –                           205.00 रुपया

पंजाब                              –                          263.00 रुपया

तमिलनाडु                        –                          256.00 रुपया

राजस्थान                         –                           255.00 रुपया

त्रिपुरा                             –                            205.00 रुपया

उत्तर प्रदेश                      –                            201.00 रुपया

उत्तराखंड                        –                            201.00 रुपया

वेस्ट बंगाल                      –                             204.00 रुपया

अंडमान और निकोबार     –                             258.00 रुपया

दमन और दिउ                –                            227.00 रुपया

लक्षद्वीप                          –                            266.00 रुपया

पडुचेर्री                          –                             256.00 रुपया

तेलंगाना                        –                              237.00 रुपया

गोवा                             –                              280.00 रुपया 

हम लोग अगले पोस्ट में मनरेगा योजना में फॉर्म अप्लाई करने का तरीका जानेंगे

 

                                                       प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना क्या है

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments